सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन, या स.इ.ऑ., एक बहु-अनुशासन फील्ड है जो आपके साइट को सर्च इंजन अंजाम पृष्ठों के ऊपर ला कर (जिसे SERP के रूप में संक्षिप्त किया जाता है) और भी ज़्यादा गोचर बनाता है और आपके कम्युनिटी पर ज़्यादा सदस्यों को लाता है। स.इ.ऑ. की प्रथाएँ निरंतर बदल और बेहतर हो रही है; वे तकनीक जो वेब के पहले दिनों में काम आते थें अब बेकार बन चुके हैं और इन्हें इंडेक्स कराना बहुत ज़रूरी हो गया है।

गैम्बिट बेकार में नहीं खेलता; वह विरोध करता है।

SERP पर चढ़ने का सबसे अच्छा तरीका है अद्वितीय, आकर्षक कंटेंट बनाना और उन सदस्यों के साथ शेयर करना जो विषय के बारे में उतना ही उत्साहिक हैं जितना आप हैं। गूगल और दूसरे व्यावसायिक सर्च इंजन कठिन कलन-विधि का इस्तेमाल करते हैं जो पृष्ठों को उनके प्रासंगिकता और उपयोगिता के हिसाब से रैंक करने से पहले सौ-सौ चीज़ों को ध्यान में लेते हैं। कम्युनिटियाँ जो पहले पृष्ठ (या पहले स्थान!) पर आते हैं, अपने बादशाह माने जाते हैं।

यह बात तो सर्च इंजन राज़ रखते हैं कि हर बात रैंक पर कितना प्रभाव डालता है, और इस सिस्टम के साथ छेड़छाड़ करने वाले और लोगों की आदतों को ट्रैक करने वाले किसी को भी हतोत्साहित करने के लिए इसे अक्सर बदला जाता है। इन बदलावों ने कई कूटनीतिओं को हराया है, पर नए और पुराने, सभी फैनडम कम्युनिटियाँ सच-और-परीक्षाणित SEO के सबसे अच्छे प्रथाओं का पालन कर अच्छे रैंक पा सकते हैं।

उन गुणों को ढूँढने से पहले जिन पर सर्च इंजनें ध्यान रखते हैं, यह जानना भी ज़रूरी है कि एक कम्युनिटी के पृष्ठ और चित्र कैसे इसे इंडेक्स में पहली स्थान दिला सकते हैं।

क्रॉलिंग और इंडेक्सेशन[स्रोत सम्पादित करें]

स्पाइडर-मैन और स्पाइडरों के बीच बहुत कुछ बराबर है।

क्रॉलिंग इंडेक्सेशन का पहला कदम है। सर्च इंजन आटोमेटिक बॉट भेजते हैं (जिन्हे "स्पाइडर" कहते हैं) जो एक बहुत ही तेज़ सदस्य की तरह हर साइट को देखते हैं, उनके पृष्ठ-नाम को स्कैन करते हैं, चित्र और उनके जगहों को नोट करते हैं और अपने इंडेक्स में डॉक्यूमेंट करने के लिए कीवर्डों की जाँच करते हैं।

सर्च इंजनें क्रॉलरों के डेटा की मदद से ही यह फैसला लेते हैं कि किस पृष्ठ को अपने डेटाबेस में लाना है और किस को नहीं। ध्यान रखें कि सर्च अंजाम एक विषय के बारे में उपलब्ध डॉक्यूमेंटों की एक अधूरी सूचि होती है, और इसलिए यह इंटरनेट का सटीक चित्रण नहीं है। इसके बजाय, सर्च इंजन डेटाबेस चुनिंदा डेटा ही रखते हैं ताकि अरबों पृष्ठों को एक सेकंड के अंदर पाया जा सके।

तो एक कम्युनिटी निश्चित कैसे हो सकता है कि उसके पृष्ठों को दूसरे के आगे इंडेक्स और रैंक किया जा रहा है? यह सब उनके पृष्ठों से शुरू होता है।

पृष्ठ के एलिमेंट[स्रोत सम्पादित करें]

पृष्ठ के एलिमेंट में सब कुछ शामिल है, 'आपके URL की संरचना कैसी है' से 'वेब के सटीक सर्च टर्म के लिए कितने कीवर्ड हैं', पर कुछ सबसे ज़रूरी पृष्ठ-एलिमेंट आप जैसे कम्युनिटी-सदस्यों के हाथों में हैं।

कीवर्ड का इस्तेमाल और जगह[स्रोत सम्पादित करें]

आज, गूगल सदस्य के सवाल की जाँच करने के लिए आर्थिक खोज का इस्तेमाल करता है, ताकि यह डिसअमबिगेशन दे कर भी खोजकर्ता की मदद कर सके। इसी लिए "स्पाइडर-मैन" और "स्पाइडरमैन" एक ही अंजाम लाएँगें, पर "नैशविल" टेनेसी में करने के लिए चीज़ें दिखाएगा और "नैशविल कास्ट" कॉनी ब्रिटन के फिल्म के बारे में दिखाएगा।

रोबोट रोबोट पुलिस कॉप पुलिसमैन रोबोकॉप?

सम्बंधित टर्मों को एक पृष्ठ पर एक साथ जोड़ देना पहले एक आम प्रथा थी, जो बॉट को आकर्षित करता था, पर आज इस तकनीक का इस्तेमाल करने पर सर्च इंजन को लगता है कि आप एक बॉट हो! आधुनिक सर्च कलन-विधियाँ प्राकृतिक इंसानी भाषा पसंद करते हैं और मशीन द्वारा बनाए गए साइटों को आसानी से पहचान जाते हैं।

यह सोचिए कि पृष्ठ बन चुका है और पूछिए: "अगर मैंने इस पृष्ठ को सर्च इंजन की मदद से पाना चाहा, मुझे सर्च बार में क्या डालना पड़ेगा?" ये ही आर्टिकल में देने के लिए सबसे अच्छे टर्म हैं। जहाँ ज़रुरत पड़ें, वहाँ पर्यायवाची शब्द का इस्तेमाल करें (उदाहरणस्वरूप: ग्रैंड थेफ़्ट ऑटो, GTA गाड़ियाँ, GTA वाहन, ग्रैंड थेफ़्ट ऑटो में गाड़ियाँ), पर हर इस्तेमाल आम दिखना चाहिए।

कंटेंट को तब काम का माना जाता है जब यह खोजकर्ता के क्वेरी से मिलता जुलता हो, तो इसका मतलब कीवर्ड अनुसंधान यह फैसला करने में मदद कर सकता है कि कौन से कीवर्डों का इस्तेमाल करना है।

तस्वीरों के नाम और विवरण[स्रोत सम्पादित करें]

गूगल और दूसरे सर्च इंजन वीडियों और चित्रों को समझने में और बेहतर होते जा रहे हैं, पर विस्तारित चित्रों के नाम बॉटों को ताकतवर और साफ़ सिग्नल भेजते हैं। यह प्रथा फैनडम को पढ़ने वाले स्क्रीन रीडर का इस्तेमाल करने वाले नेत्रहीन लोगों की भी मदद कर सकता है।

आम चित्रों के नाम मिशन को बर्बाद कर देते हैं।

उदाहरणस्वरूप, स्टीव रोजर्स के चित्र का नाम "स्टीव रोजर्स" और/या "कैप्टेन अमेरिका" होना चाहिए। चित्र का विवरण कुछ और विस्तार दे सकता है, जैसे "अवेंजर्स वॉल. ५ सं ३७ में कमांडर स्टीव रोजर्स"।

लिंक[स्रोत सम्पादित करें]

इंटरनल लिंक सदस्य-अनुभव को बढ़ाता है और सर्च बॉटों को इंडेक्स कंटेंट ढूँढने में मदद करते हैं। याद रखें कि स्पाइडर लिंकों की मदद से ही पृष्ठों तक पहुँचते हैं।

टॉम मार्वोलो रिडल, यानि वोल्डेमॉर्ट।

एक नए पाठक की कल्पना कीजिए जो इस विषय के बारे में पहली बार पढ़ने आया है। वे और जानने के लिए कहाँ जाएँगे? आपको वहीं लिंक जोड़ना है।

  • ज़्यादा मेहनत करने की ज़रूरत नहीं है। ऐसा अंदाज़ा लगाया गया है कि हार मानने से पहले सर्च बॉट १००-२०० लिंक देखते हैं (हैडर और फुटर सहित)।
  • मूल टेक्स्ट को मिक्स करने की कोशिश करें, हालाँकि अगर आप हर पृष्ठ पर एक ही लिंक डालते हों। हैरी पॉटर के बारे में एक आर्टिकल वोल्डेमॉर्ट तक "डार्क लॉर्ड" या "ही हूँ शुड नॉट बी नेम्ड" लिंक कर सकते हैं। बिना लिंक के आर्टिकलों का पता लगाने के लिए विशेष:DeadendPages पृष्ठ का इस्तेमाल करें (कोई डेड एन्ड नहीं!) और Special:WantedPages को साफ़ कर दें।
  • श्रेणियाँ कम्युनिटी को आकार देते हैं और बॉट और इंसानों को पृष्ठों के बीच का सम्बन्ध समझने में मदद करते हैं। अवर्गीकृत पृष्ठों को ठीक करने की कोशिश करें।

पृष्ठ के बाहर की बातें[स्रोत सम्पादित करें]

सुनने में अजीब लगता है, पर एक कम्युनिटी की रैंक क्षमता का आधा हिस्सा इसके डायरेक्ट नियंत्रण के बाहर है। एक विषय के बारे में पहले पब्लिश करना, दूसरे आदरणीय साइटों से लिंक कमाना (खरीदना नहीं), या सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनना सर्च रैंकिंग में काफी प्रभाव डाल सकता है।

एक समय में बॉटों को नए कम्युनिटी, डायरेक्टरी, फोरम, और ब्लॉग कमेंट सेक्शनों तक लिंक के ज़रिये ले जाना मुमकिन था, पर आज-कल ये साइटें अपने आप एक rel="nofollow" एट्रिब्यूट जोड़ देते हैं, जो बॉट को किसी और लिंक के पीछे जाने नहीं देता।

हर एक कम्युनिटी के लिए यह सबसे अच्छी प्रथा होगी कि नए योगदानकर्ताओं को प्रोत्साहित करना, अच्छा कंटेंट बनाना, और वहाँ से प्राकृतिक रूप से बाहरी लिंक डालना।

सहायता और फीडबैक[स्रोत सम्पादित करें]

Community content is available under CC-BY-SA unless otherwise noted.